गुरुवार, अक्टू 17

  •  
  •  

पूर्णिमा वर्मन

purnima-verman

पूर्णिमा वर्मन का जन्म जून, 1955 में हुआ था। एक पत्रकार के रूप में अपना कार्य-जीवन प्रारंभ करने वाली श्रीमती पूर्णिमा वर्मन ने वेब पर हिंदी को स्थापित कर उसे लोकप्रिय बनाने के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य किया है। प्रवासी और विदेशी हिंदी लेखकों को प्रकाशित करने के लिए उन्होंने 'अभिव्यक्ति' और 'अनुभूति' जैसे साझा मंचों को तैयार किया, जो अपने स्वरूप में जाल पत्रिकाएँ हैं।

कार्यक्षेत्र

'अभिव्यक्ति' में पूर्णिमा वर्मन द्वारा शब्दकोश और तुकांत कोश की स्थापना कर साहित्य के लिए तकनीकी दृष्टि से महत्वपूर्ण कार्य किया गया है। श्रीमती वर्मन हिंदी के अंतरराष्ट्रीय विकास के अनेक कार्यों से जुड़ी होने के साथ-साथ हिंदी विकीपीडिया के प्रबंधकों में से भी एक हैं। उनके दो कविता संग्रह 'पूर्वा' और 'वक्त के साथ' नाम से प्रकाशित हैं। वेब और देश-विदेश की हिंदी पत्र-पत्रिकाओं में उनकी कहानियॉं और लेख आदि भी प्रकाशित होते रहते हैं।

Hindi-sevi-samman-13

सम्मान और पुरस्कार

वेब पर हिंदी को लोकप्रिय बनाने के अपने प्रयत्नों के लिए पूर्णिमा वर्मन को भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, साहित्य अकादमी तथा अक्षरम के संयुक्त अलंकरण ‘अक्षरम प्रवासी मीडिया सम्मान’ सहित अनेक सम्मानों से अलंकृत किया जा चुका है। ऐसे विशिष्टि कार्यों के लिए श्रीमती पूर्णिमा वर्मन को पद्मभूषण डॉ. मोटूरि सत्यनारायण पुरस्कार से विभूषित करते हुए केंद्रीय हिंदी संस्थान स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहा है।